Sariya Cement Rate: सरिया सीमेंट के दामों में फिर अचानक गिरावट, देखें ताजे भाव

किसी भी व्यक्ति को सर्वाधिक सुकून और शांति अपने स्वयं के घर में ही मिलती है. लेकिन स्वयं का घर बनाना कि यदि बात आए तो यह एक चिंता का विषय बन जाता है. क्योंकि यह कार्य कर पाना प्रत्येक व्यक्ति के बस की बात नहीं होती है.

यदि आप भी स्वयं का घर बनाने के लिए प्रबल इच्छुक है, किंतु किसी न किसी कारणवश अपने इस इच्छा को त्याग दे रहे हैं. तो फिर अब आपको ऐसे परहेज करने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है.

क्योंकि अब स्वयं के घर बनाने हेतु सर्वाधिक अनुकूल परिस्थितियों की उत्पत्ति हो चुकी है. इसके प्रयोग से आप सभी लोग स्वयं का नया घर कम पैसों से और बेहतर ढंग से बना सकते हैं.

स्वयं का घर बनाना इतना कठिन क्यों?

अब जब भी स्वयं के घर को बनाने की बात आती है, तो इसे सर्वाधिक कठिन कार्यों की सूची में सम्मिलित कर दिया जाता है. अब लेकिन प्रश्न यह भी उठता है कि ऐसा क्या है? जो इसे इतना अधिक कठिन बना देता है.

तो इसका उत्तर प्रदान करते हुए हम यह कहना चाहेंगे, कि एक घर बनाने के लिए संयम, संघर्ष, संतोष तथा बहुत सारे पैसों की आवश्यकता होती है. तब जाकर के कहीं पर घर बन पाता है.

इन सभी में से यदि एक भी अनुपस्थित रहा, तो फिर घर बनाना एक चुनौती से कम नहीं होता है. यही सब कारण है जो स्वयं के घर बनाने को एक कठिन कार्य में परिवर्तित कर देते हैं.

इन बातों का ख्याल रखें

यदि आप भी सोच रहे हैं, कि आप स्वयं का नया घर बनाएंगे तो इस कार्य हेतु आपको सर्वप्रथम एक खास बात का ख्याल रखना है.

वह यह है कि आप एक सुचारू प्रारूप बना ले जिससे कि आपको इस बात का अनुमान हो जाएगा, कि कितने रुपए का खर्च आपको इस कार्य हेतु करना पड़ेगा?

क्योंकि स्वयं का घर बनाना कोई मामूली बात नहीं होती है. इसमें हजारों लाखों रुपए तक खर्च हो जाते हैं. उसके बाद घर बन पाता है.

लेकिन यदि पूर्व निर्धारण प्रत्येक वस्तु का न किया जाए, तो फिर जरूरत से भी अधिक वस्तु लग जाते हैं और इस प्रकार से पैसे भी बर्बाद होते हैं.

इसी के समाधान हेतु गृह निर्माण कार्य प्रारंभ करने से 1 महीने पूर्व आपको एक प्रारूप तैयार कर लेना है. जिससे कि आपको इस बात का अनुमान हो जाएगा कि कितने रुपए आपको मिस्त्री को देने हैं?

कितने रुपयों को आप को कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स खरीदने में निवेश करने हैं? और कितने समय के पश्चात आपका घर बनकर तैयार होगा?

क्यों है यह समयावधि अनुकूल?

अब सर्वाधिक आवश्यक प्रश्न यह भी है, कि आखिर ऐसा क्या है? इस समय में जो कि स्वयं का घर बनाने हेतु इसे सर्वाधिक अनुकूल बताया जा रहा है.

हम बता दें कि कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स में कुछ गिने-चुने वस्तुएं ही सम्मिलित की जाती है. जैसे की ईट, रेत, सरिया, सीमेंट, बार, लकड़ियां इत्यादि. किंतु यह गिने-चुने वस्तुएं ही बहुत ज्यादा महंगे होते हैं.

जिसके परिणाम स्वरुप स्वयं का घर बनाने का यह कार्य और भी ज्यादा खर्चीला हो जाता है. किंतु सौभाग्यवश अभी कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स मुख्य रूप से सरिया और सीमेंट के मूल्य गिर चुके हैं. जो कि इस महंगे कार्यों को तनिक मात्र ही सही किंतु सहन योग्य बनाने हेतु सक्षम है. 

यदि बात की जाए देश के बड़े-बड़े शहरों की तो, मध्यप्रदेश के इंदौर में अक्टूबर के महीने में सरिया के मूल्यों में अपेक्षित गिरावट देखी गई थी. इस शहर में सरिया का मूल्य ₹47,800 प्रति टन से लेकर के ₹54,200 प्रति टन के आसपास पहुंच चुका है. 

जाने क्या मूल्य चल रहे हैं?

आज के इस पोस्ट में हमने नीचे में कुछ विशेष राज्य तथा शहरों का विवरण प्रदान किया है, और वहां पर सरिया का मूल्य क्या चल रहा है? इसके विषय में भी जानकारी प्रदान की है.

यदि आप भी निम्नांकित शहरों से संबंधित है, तो फिर आपको अपने शहर के सरिया का मूल्य नीचे बताए गए विवरण के जरिए प्राप्त हो जाएगा.

नागपुर में 1 टन सरिया का मूल्य ₹51,900 रुपए से लेकर के ₹47,800 के मध्य में निर्धारित किया गया है.

तेलंगना के हैदराबाद शहर में एक टन सरिया के लिए ₹52000 से लेकर के ₹50500 तक का निर्धारण किया गया है. 

राजस्थान के जयपुर शहर की यदि बात की जाए तो यहां पर 1 टन सरिया का मूल्य ₹53100 से लेकर के ₹50000 के मध्य में तय किया गया है.

गुजरात के भावनगर में भी परिस्थितियां कुछ ऐसी ही है, अर्थात यहां पर एक टन सरिया का मूल्य ₹54500 से लेकर के ₹52500 के मध्य में निर्धारित किया गया है.

यदि बात की जाए उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की तो यहां पर 1 टन सरिया का ₹52200 से लेकर के ₹49500 के मध्य में तय है.

मध्यप्रदेश के इंदौर में भी सरिया के मूल्य ₹50000 का आंकड़ा पार करते हैं. अर्थात जहां पर एक टन सरिया का मूल्य ₹54200 से लेकर के 52800 रुपए के मध्य में निर्धारित किया गया है.

देश के सर्वाधिक कम क्षेत्रफल वाले राज्य गोवा में यदि आप 1 टन सरिया खरीदते हैं, तो आपको ₹53500 से लेकर के ₹51300 देने पड़ेंगे.

साउथ इंडिया की यदि बात की जाए अर्थात तमिलनाडु के चेन्नई की तो यहां पर एक टन सरिया के लिए कंस्ट्रक्शन कार्य करने वाले लोगों को ₹54500 से लेकर के ₹52200 देने पड़ते हैं.

देश की राजधानी नई दिल्ली में भी यदि आप 1 टन सरिया खरीदते हैं. तो आपको ₹53300 से लेकर के ₹51400 तक के पैसे देने पड़ सकते हैं. 

देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई में यदि आप एक टन सरिया खरीदते हैं, तो फिर आपको यहां पर ₹55100 से लेकर के ₹52800 तक के मूल्य का भुगतान करना पड़ सकता है.

यदि बात की जाए उत्तर प्रदेश के कानपुर की तो यहां पर भी 1 टन सरिया का मूल्य ₹50000 का आंकड़ा पार करता है.

अर्थात यहां पर रहने वाले लोगों को एक टन सरिया की खरीदारी हेतु ₹55200 से लेकर के ₹53000 तक की धनराशि का भुगतान करना पड़ता है. 

निष्कर्ष 

आज के इस आर्टिकल में हमने आप सभी लोगों के समक्ष सरिया और सीमेंट के मूल्यों से जुड़ी सारी आवश्यक जानकारियां उल्लेखित कर दी है. हमें आशा है कि हमारे द्वारा प्रदान की गई यह सभी जानकारियां आपको आपके कंस्ट्रक्शन कार्य हेतु सहायता प्रदान करेगी.

Leave a Comment

Join Telegram