Sariya Cement Rates: मकान बनाना हुआ अब बेहद आसान, सरिया-सीमेंट के रेट में रिकॉर्डतोड़ गिरावट

उन तमाम लोगों की भांति यदि आपका भी स्वप्न स्वयं का घर बनाने का है, तो फिर आपको इस कार्य हेतु अब बिल्कुल भी विलंब नहीं करना चाहिए. क्योंकि अभी निर्माण कार्य में प्रयोग की जाने वाली वस्तुओं के मूल्य पूरी तरह से गिर चुके हैं.

इस अवसर का लाभ उठाकर के प्रत्येक व्यक्ति को स्वयं का घर शीघ्रता शीघ्र बनवा लेना चाहिए. यदि आप भी चाहते हैं कि आपका स्वयं का घर कम पैसों के साथ बन जाए, तो इससे ज्यादा अनुकूल परिस्थितियां पुनः से नहीं प्राप्त हो पाएगी.

क्या स्वयं का घर बनाना कठिन कार्य है?

यदि आप स्वयं का घर बनाने का संकल्प अपने हाथों पर लेते हैं. तो फिर आप को इस बात का पता जरूर होना चाहिए, कि स्वयं का घर बनाना कोई मामूली बात नहीं है. इस कार्य हेतु बहुत ही ज्यादा मेहनत की आवश्यकता होती है.

अर्थात यदि आप भी स्वयं का घर बनाना चाहते हैं. तो इस कार्य हेतु आपको बहुत सारे पैसों की आवश्यकता होगी. इसके साथ ही साथ धैर्य तथा संतोष भी चाहिए होगा तब जाकर के आपके घर बना पाएंगे.

स्वयं के घर बनाने हेतु तो इतना ज्यादा पैसों की लागत आ जाती है, कि लोगों को अपने संपूर्ण जीवन की जमा पूंजी इस कार्य हेतु निछावर कर देनी होती है. तब जाकर के कहीं पर पर्याप्त धन एकत्रित हो पाता है.

किंतु यदि यह भी पर्याप्त ना रहा तो फिर लोगों को अपने नजदीकी किसी भी बैंक में जाकर के होम लोन लेना पड़ता है. इतना सब करने के पश्चात ही कहीं पर गृह निर्माण कार्य संभव हो पाता है.

और घर बनाने के लिए लोगो को इस तरफ जरूर ध्यान देना चाहिए की जब सरिया सीमेंट के दाम गिरे तब अपना गृह बनाने का काम शुरू करना चाहिए। सूत्रों से यह खबर मिली हैं की सरिया सीमेंट के दामों में तेज़ी से गिरावट देखने को मिली है जिसे आप यँहा देख सकते हैं.

कंस्ट्रक्शन मैटेरियल के मूल्य क्यों गिरे?

हमने यह तो बताया कि कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स के मूल्य भी गिर चुके हैं. किंतु प्रश्न यह भी उठता है कि आखिर कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स के मूल्य गिरे ही क्यों? तो इसका उत्तर प्रदान करते हुए हम यह कहना चाहेंगे कि इसका मुख्य कारण वर्षा ऋतु रहा.

वर्षा ऋतु के समय में देश के बहुत सारे क्षेत्रों में भारी वर्षा हो रही थी. जिसके परिणाम स्वरुप कंस्ट्रक्शन कार्यों का कर पाना असंभव प्रतीत हो रहा था. इसका प्रत्यक्ष प्रभाव कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स की डिमांड पर देखने को मिला.

किंतु कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स के डिमांड में गिरावट का एक अन्य कारण दिवाली तथा छठ पूजा जैसे महापर्व भी थे. इसी दौरान कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स के मूल्यों में भारी गिरावट देखने को मिली है.

आप किसे प्राथमिकता देंगे?

जब भी स्वयं के गृह निर्माण की बात आती है, तो फिर सभी लोगों के समक्ष मुख्य रूप से 2 विकल्पों मौजूद होते हैं. सर्वप्रथम तो स्वयं का कोई प्लॉट खरीद कर के वहां पर गृह निर्माण कार्य प्रारंभ करें.

एक अन्य विकल्प होता है बना बनाया घर खरीदें इसमें ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है. यह दोनों ही विकल्प अपने-अपने स्थान पर सर्वोत्तम है, किंतु लोगों की आवश्यकता तथा उनके चयन पर यह निर्भर करता है, कि वह इन दोनों में से किस का चयन करते हैं?

किंतु यदि आप स्वयं का घर स्वयं ही बनाना चाहते हैं. इसके साथ ही साथ आपके पास पहले से ही प्लॉट मौजूद है.

तो फिर यह तो सोने पर सुहागा के समान है, अर्थात आपको बस कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स और कंस्ट्रक्शन वर्क के लिए पैसे खर्च करने होंगे. हाउस कंस्ट्रक्शन के लिए सरिया सीमेंट के नए दाम के अनुसार देखें यँहा घर बनाना कितना सस्ता या महंगा होगा।

प्रमुख शहरों में सरिया का मूल्य

हमने नीचे में कुछ शहर तथा उनके राज्यों के साथ-साथ वहां पर मिलने वाले सरिया के मूल्यों का विवरण भी प्रदान किया है. किंतु स्मरण है कि हमने जो मूल्य बताया है वह प्रति टन के हिसाब से उल्लेखित है.

यदि आप महाराष्ट्र राज्य के नागपुर शहर के निवासी है, तो फिर आपको वहां पर एक टन सरिया की खरीदारी हेतु ₹51900 से लेकर के ₹47,800 तक का भुगतान करना पड़ सकता है.

तेलंगाना राज्य के हैदराबाद शहर में एक टेन सरिया का मूल्य ₹52000 से लेकर ₹50500 तक निर्धारित किया गया है.

राजस्थान राज्य के जयपुर शहर में भी एक एक टन सरिया का मूल्य ₹53100 से लेकर के ₹50000 प्रति टन के मध्य में आता है.

गुजरात के भावनगर शहर में यदि कोई व्यक्ति 1 टन सरिया की खरीदारी करता है. तो फिर इस स्थिति में उसे ₹54500 से लेकर के ₹52500 के मध्य में मूल्य का भुगतान करना होगा.

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में यदि आप 1 टन सरिया की खरीदारी करते हैं, तो फिर आपको ₹52200 से लेकर के ₹49500 तक का भुगतान करना पड़ सकता है.

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में भी परिस्थितियां कुछ ऐसी ही है. अर्थात यहां पर 1 टन सरिया का मूल्य ₹54200 से लेकर के ₹52800 के मध्य में तय किया गया है.

क्षेत्रफल में देश के सबसे छोटे राज्य गोवा में भी अभी एक टन सरिया का मूल्य ₹53500 से लेकर ₹51300 के मध्य में तय किया गया है.

यदि साउथ इंडिया की ओर रुख किया जाए अर्थात तमिलनाडु के चेन्नई शहर में जाया जाए, तो यहां पर 1 टन सरिया का मूल्य ₹54500 से लेकर के ₹52200 के मध्य में तय किया गया है.

देश की राजधानी नई दिल्ली में भी यह मूल्य ₹50000 का आंकड़ा पार करता है. अर्थात एक टन सरिया का मूल्य यहां पर ₹53,300 से लेकर के ₹51400 के मध्य में तय किया गया है.

देश के कमर्शियल कैपिटल कहीं जाने वाली मुंबई में भी ग्राहकों को एक टन सरिया की खरीदारी के लिए ₹55100  लेकर के ₹52800  के मध्य में मूल्य का भुगतान करना पड़ता है.

उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में 1 टन सरिया का मूल्य ₹55200 से लेकर के ₹53000 प्रति टन के हिसाब से तय किया गया है.

सीमेंट के मूल्य भी जाने

सरीया के पश्चात यदि किसी अन्य मटेरियल के मूल्यों में गिरावट देखने को मिली है, तो वह सीमेंट ही है. वैसे तो कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स में कुछ गिने-चुने वस्तु ही सम्मिलित की जाती है जिनमें मुख्य रुप से सरिया, सीमेंट, रेत, बार, ईट इत्यादि सम्मिलित है.

अभी यदि आप सीमेंट की खरीदारी करते हैं, तो फिर आपको इसके लिए लगभग लगभग ₹10 से लेकर के ₹30 कम का भुगतान करना होगा. वह भी प्रति बोरी के पीछे.

बिरला उत्तम सीमेंट जो कि ₹400 से भी अधिक के मूल्यों में बाजारों में उपलब्ध कराया जाता था. अभी वर्तमान में ₹380 प्रति बोरी के हिसाब से बेचा जा रहा है. यदि बात की जाए अन्य ब्रांडेड सीमेंट कंपनियों की तो उन्होंने भी अपने मूल्यों में गिरावट कर दी है.

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आप सभी लोगों के समक्ष सरिया और सीमेंट के मूल्यों से संबंधित सारी आवश्यक जानकारीयां उपलब्ध कराई है. हमें आशा है कि हमारे द्वारा प्रदान की गई यह सभी जानकारियां आपको बहुत भी ज्यादा लाभान्वित करेगी.

Leave a Comment

Join Telegram