How To Start Tea Bag Making Business: चायपत्ती के बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें, यहां देखे अहम जानकारी

आप सभी का हमारे इस लेख में, इन दिनों चाय मानो लोगों के लिए पैय पदार्थ नहीं अपितु हर दिन ग्रहण करने वाला भोजन का ग्रास बन चुका है। लोगों के द्वारा हमारे देश में चाय का सेवन इसी प्रकार से किया जाता है। बहुत से ऐसे लोग होते हैं जिनकी सुबह की शुरुआत बिना चाय कॉफी के होती नहीं है। 

वे चाय पीने के इतने आदी होते हैं कि यदि घर में चाय ना बने तो वह चाय पीने के वास्ते कई किलोमीटर दूर तक भी जाने को तैयार रहते हैं। ऐसे में यदि आप चाय पत्ती का बिजनेस करते हैं तो आप इस बात का अनुमान लगा सकते हैं आपके लिए कितना ज्यादा फलदायक सिद्ध होगा। 

किस प्रकार लाभकारी सिद्ध होगा या बिजनेस

यदि चाय को घर में बनाया जाता है तो उसमें चाय पत्ती से बैग का प्रयोग नहीं किया जाता अभी तो सीधा जाकर देखो डाल दिया जाता है उबालने के पश्चात उसे छानकर किया जाता है किंतु यदि बात करें दुकानों ऑफिस होटलों की तो यहां पर ऐसा नहीं होता है। यहां पर बनाए जाने वाली चाय में टी बैग का ज्यादा प्रयोग होता है जिस कारण से देश में उपस्थित ज्यादातर चाय पत्ती बेचने वाली कंपनियों ने अब टैक्स वाले जातियों को बेचना प्रारंभ कर दिया है इस वजह से आप इस बिज़नेस में रुचि रखते हैं तो टी बैग का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। 

चाय पत्ती की वैरायटी जाने

टी बैग का बिजनेस चाय पत्ती से जुड़ा हुआ बिजनेस एवं हमारे देश भारत में लोगों के द्वारा चाय का सेवन बहुत बड़े स्तर पर किया जाता है भारत के ऐसे बहुत राज्य है जहां पर चाय के बागान है एवं इन्हीं बयानों से चाय पत्ती की सप्लाई संपूर्ण देश में की जाती है। समय बाजार में कई तरह की चाय पत्ती की वैरायटी उपलब्ध है यदि आप टी बैग का बिजनेस शुरू करने की इच्छुक है तो आपको चाय पत्ती के वैरायटी के विषय में संपूर्ण जानकारी होना अति आवश्यक है। 

प्रकार:-

  • सफेद चाय (White Tea):- वाइट या फिर सफेद जाए भारत के साथ-साथ साइना ताइवान एवं थाईलैंड जैसे देशों में भी वही जाती है एवं यह चाय पत्ती चायपत्ती चाइनीज केमेलिया सिनेसिस पौधे के पत्तों से और कैसे बनाई जाती है। 
  • ग्रीन टी (Green Tea):- ग्रीन टी का सेवन काफी अधिक स्तर पर किया जाता है क्योंकि यह हेल्थ के लिए काफी ज्यादा अच्छी होती है इसके साथ ही ग्रीन टी की पत्ती केमेलिया सिनेसिस पौधे से बनाई जाती है। 
  • ऊलौंग टी (Oolong Tea):- यह चाय चाइना सहित कई देशों में बहुत ही अधिक प्रसिद्ध है किंतु हमारे देश में इस प्रकार के चाहे को अधिक लोगों के माध्यम से नहीं पिया जाता है किंतु यदि आप अपना टीव्हब का व्यवस्था अन्य देशों में भी विस्तारित करते हैं तो आप को ऊलौंग टी बैग बनाना काफी ज्यादा लाभ प्रदान कर सकता है। 
  • ब्लैक टी (Black Tea):- ब्लैक टी का सेवन भारत में बहुत ज्यादा किया जाता है एवं यह चाय पत्ती बाजार में बिकने वाले अन्य प्रकार की चार पत्तियों से स्वाद में भी काफी ज्यादा स्ट्रांग होती है। 
  • हर्बल टी (Herbal Tea):- हर्बल टी में जड़ी बूटी फूल एवं फल का मिश्रण होता है एवं या इस चाय पत्ती में मुख्य रूप से तीन वैरायटी होती है राइबोस चाय, मेट चाय तथा हर्बल इन्फ्यूजन। ओपन बताई गई थी के अतिरिक्त येलो एवं फर्मेन्टेड नाम की चाय पत्ती भी बाजार में बहुत ही अधिक लोकप्रिय हैं। 

तैयार करें बिजनेस प्लान एवं बजट

टी बैग बनाने के बाद से बिजनेस का स्टेप तैयार करने से पूर्व आप मार्केट रिसर्च के बेसिस पर स्वयं का एक बिजनेस प्लान तैयार कर सकते हैं। क्योंकि आप के माध्यम से तैयार किए गए बिजनेस प्लान की सहायता से ही आपको टी बैग के व्यवसाय को स्थापित करने में सहायता प्राप्ति होगी एवं इसके साथ ही इस व्यवसाय के साथ जुड़े नुकसान एवं फायदे के विषय में भी आपको जानकारी प्राप्त हो सकेगी। चाय पत्ती के बैग बनाने हेतु प्रयोग किए जाने वाली वस्तु :-

  • फिल्टर पेपर
  • चाय पत्ती 

जानिए क्या होता है फिल्टर पेपर

टी बैग बनाने में प्रयोग किए जाने वाला फिल्टर पेपर मुख्य रूप से अबाका फाइबर से बनाया जाने वाला एक पेपर है एवं यह फाइबर फिलीपीन केले के पत्तों से प्राप्त किए जाते हैं जिसे मनीला हंप के रूप में भी लोगों के द्वारा जाना जाता है फिल्टर पेपर के भीतर चाय पत्ती को भरा जाता है एवं इस पेपर के संहिता पत्र गर्म पानी में डालकर चाय बनाई जाती है। 

टी बैग को बनाने में प्रयोग किए जाने वाले फिल्टर पेपर का कागज बहुत ही ज्यादा क्षेत्र पूर्ण एवं पतला होता है इसके अतिरिक्त यह पेपर आसानी से गिला भी नहीं होता है। जिस वजह से पेपर गर्म पानी में नहीं भूल पाता है एवं इस वजह से इस पेपर का प्रयोग चाय पत्ती के बैग बनाने हेतु किया जाता है। 

चाय पत्ती

चाय पत्ती कई तरह की होती है जैसे कि ग्रीन टी ब्लैक टी एवं इत्यादि। इसलिए आप जिस किस्म की चाय पत्ती के चाय पत्ती के बाद बनाने का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं आपको उस प्रकार की चाय पत्ती को खरीदना पड़ेगा। आप चाय पत्ती बेचने वाले किसी भी व्यापारी से सीधे तौर पर चाय पत्ती खरीद सकते हैं या फिर किसी चाय के बागान से चाय के पेड़ की पत्ती को खरीदकर अपनी स्वयं की संपत्ति बना सकते हैं ध्यान देने लायक बात यह चाय के पौधे की पत्तियों को तोड़कर और उसे सुखाकर से भर्ती तैयार की जाती है। 

आप कहां से खरीद सकते हैं चाय पत्ती

यदि आप अपने शहर या फिर राज्य के किसी भी चाय पत्ती बेचने वाले व्यापारी से थोक दामों में इन्हें खरीद आसानी से सकते हैं इसके अतिरिक्त यदि आप ऑनलाइन माध्यम से चाहे तब भी आप चाय पत्ती को खरीद सकते हैं। इसके वास्ते आपको dir.indiamart.com/ और indiamart.com/ लिंक पर जाकर के आपको ऐसे व्यापारी ढेरों मिल जाएंगे जो कि ऑनलाइन माध्यम से चाय पत्ती को बेचने का कार्य कर रहे हैं। 

चाय पत्ती के दाम भी जाने

चाय पत्ती के दामण की क्वालिटी पर पूरी तरह से निर्भर करते हैं अर्थात यदि आप अच्छी क्वालिटी की चाय पत्ती बना लेते हैं तो आप उन्हें ₹300 प्रति किलो के हिसाब से आसानी से खरीद सकते हैं वहीं अगर आप थोड़ी कम क्वालिटी वाले चाय पत्ती को लेते हैं तो आपको यार ₹100 से लेकर के ₹150 के मध्य में आसानी से मिल जाएगा। 

निष्कर्ष:-

आज के Article की सहायता से हमने आप सभी प्रिय पाठक के साथ चाय पत्ती के बिजनेस के विषय में कुछ आवश्यक जानकारियां साझा की है हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा प्रदान की गई यह सभी जानकारियां आपको बहुत ज्यादा पसंद आई होगी। 

Leave a Comment