Ration Card Big News धारकों के ल‍िए जरूरी खबर, 1 जून से होगा बड़ा बदलाव

राशन कार्ड बड़ी खबर धारकों के लिए आवश्यक समाचार, 1 जून से एक बड़ा बदलाव होगा, आप मुफ्त राशन भी लेते हैं.

Ration Card: राशन कार्ड नियम: यदि आप राशन कार्ड का लाभ उठाते हैं, तो यह खबर आपके उपयोग की है। दरअसल, सरकार ने राशन वितरित करने के नियमों को बदल दिया है और यह परिवर्तन जून से लागू किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में, जानें कि यहां क्या नियम बदल रहे हैं।

वास्तव में, केंद्र सरकार द्वारा राज्यों में राशन कार्ड धारकों को गेहूं और चावल को मुफ्त में वितरित किया जाता है। यह सीमा पीएम गरीब कल्याण एन योजना के तहत लागू की गई है। यह बदल दिया गया है कि अब चावल गेहूं के बजाय दिया जाएगा। इसके कार्यान्वयन के साथ, चावल को गेहूं के बजाय बेहतर दिया जाएगा।

यूपी-बिहार और केरल में नहीं मिलेगा गेहूं

Ration Card: नए नियमों ने गेहूं की सीमा को कम कर दिया है। अब गेहूं को यूपी, बिहार और केरल में वितरित नहीं किया जाएगा। उसी समय, दिल्ली, गुजरात, झारखंड, सांसद, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में गेहूं का कोटा कम हो गया है। इन राज्यों में, कार्डधारकों को कम गेहूं और अधिक चावल मिलेगा। बाकी राज्यों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

कार्रवाई के बाद बंद हो जाएगा राशन

Ration Card: बिहार के पंचायती राज मंत्री समरत चौधरी का कहना है कि राज्य के सभी ब्लॉकों में समीक्षा चल रही है। इसके तहत, जिन लोगों के पास प्यूका हाउस, कार और घर में सभी सुविधाएं हैं, फिर भी वे इस योजना का लाभ उठा रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद, उनका राशन कार्ड भी बंद हो जाएगा।

दूसरी ओर, विभाग के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि इस बार सरकार इस विषय के बारे में सख्त हो गई है। लोगों के आधार कार्ड से संबंधित बैंक खातों, वाहनों और अन्य वस्तुओं की खरीद से मेल खाने के लिए तैयारी की जा रही है। इस समय के दौरान, यदि यह प्रमाणित है, तो कार्ड भी बंद किया जा सकता है और रिकवरी भी की जा सकती है।

UP में 1.21 लाख से अधिक लोग खा रहे थे गरीबों का राशन

Ration Card: अब तक, राज्य में नकली और अयोग्य राशन कार्ड धारकों के खिलाफ अभियान के तहत 30 हजार से अधिक राशन कार्ड की एक लाख से अधिक 21 हजार से अधिक इकाइयों को आत्मसमर्पण कर दिया गया है। इनमें से, छह हजार से अधिक ऐसे परिवारों के राशन कार्ड हैं, जिनकी वार्षिक आय पांच लाख से अधिक है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने इन दिनों अपात्र राशनकार्ड धारकों के खिलाफ अभियान चलाया हुआ है। अभियान के तहत बड़ी संख्या में लोग अपने राशनकार्ड सरेंडर कर रहे हैं। विभाग की एक रिपोर्ट के मुताबिक अब तक 30458 राशनकार्ड सरेंडर हो चुके हैं। इसमें 6147 राशनकार्ड एसएफआई, 2927 अंत्योदय और 21384 प्राथमिक परिवारों के हैं।

ration card big news

इसमें सबसे अधिक 6309 देहरादून जिले के हैं। जबकि सबसे कम 327 रुद्रप्रयाग जिले के हैं। इसके अलावा 6193 राशनकार्ड ऊधमसिंहनगर जिले में सरेंडर हुए हैं। पौड़ी गढ़वाल में 3868, चमोली में 936, उत्तरकाशी में 351, टिहरी गढ़वाल में 1609, हरिद्वार में 4940, नैनीताल में 2767, चंपावत में 634, बागेश्वर में 542, अल्मोड़ा में 371 और पिथौरागढ़ जिले में 1611 राशनकार्ड सरेंडर हुए हैं।

सरकार ने क्यों लिया ये फैसला

Ration Card: दरअसल, यह निर्णय गेहूं की खरीद को कम करने के कारण लिया गया है। खाद्य सचिव सुधान्शु पांडे ने बताया कि इस अवधि के दौरान, लगभग 55 लाख मीट्रिक टन चावल का अतिरिक्त आवंटन किया जाएगा। यह परिवर्तन केवल PMGKAY के लिए है। इसका प्रभाव यह होगा कि कुछ राज्यों में गेहूं कम हो जाएगा और पहले की तुलना में अधिक चावल दिया जाएगा।

ब‍िना कार्ड के ही म‍िल जाएगा राशन

Ration Card: सरकार द्वारा अंतिम दिनों में संसद में यह बताया गया था कि आपके पास सरकार के सस्ते घुमक्कड़ दुकान से राशन लेने के लिए राशन कार्ड नहीं है। इस बारे में जानकारी देते हुए, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पियुश गोयल ने संसद में कहा था कि अब राशन कार्ड धारक को राशन लेने के लिए कार्ड दिखाने की कोई आवश्यकता नहीं है।

महत्वपूर्ण पोस्ट पढ़ें:-

बताना होगा राशन कार्ड और आधार का नंबर

दरअसल, सरकार ने देश में ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ की सुविधा शुरू कर दी है। सरकार द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में 77 करोड़ लोगों को ‘वन नेशन, एक राशन कार्ड’ में जोड़ा गया है। इसके बाद, अब लोग राशन की दुकान पर जा सकते हैं जहाँ भी वे रहते हैं और राशन कार्ड नंबर और आधार संख्या बताकर राशन लेते हैं। इसके बाद उन्हें राशन मिलेगा।

Important Links

Ration Card सरेंडर से जुडी डिटेलClick Here
Ration Card सरेंडर लिस्टClick Here
Official WebsiteClick Here
CGWAS HomeClick Here

Leave a Comment