Ration Card : फ्री राशन कार्ड वालो के लिए बडी खबर 6 लाख परिवारो के लिए बडा फैसला

Ration Card: नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का हमारे इस लेख में,  राशन कार्ड योजना , इसके विषय में तो सभी जानते ही हैं। राशन कार्ड योजना केंद्र सरकार के द्वारा चलाई गई योजना का नाम है। आप पाठकों में से बहुत से पाठक संभवतः इस योजना से जुड़े होंगे। क्योंकि इस योजना का विस्तार लगभग संपूर्ण देश के हर राज्य में है।राशन कार्ड योजना के तहत आने वाले लाभार्थियों की यदि बात की जाए तो इन में मध्यवर्गीय परिवारों के साथ निम्न वर्गीय परिवार शामिल है।

राशन कार्ड योजना से जुड़ने के बहुत से फायदे होते हैं। इसके अतिरिक्त इस योजना के तहत हर महीने सभी लाभार्थियों को बाजार में उपस्थित मूल्य दरों की तुलना में बेहद कम मूल्य दरो में राशन प्रदान किया जाता है। आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी पाठकों के साथ राशन कार्ड योजना से जुड़ी बहुत सी मूलभूत जानकारियों के विषय में चर्चा करने वाले हैं। 

जानिए क्या है राशन कार्ड योजना

राशन कार्ड योजना हमारे देश की केंद्र सरकार के द्वारा चलाई गई एक लाभकारी योजना है जिसके कार्यक्षेत्र  की बात की जाए तो यह संपूर्ण देश में विस्तृत है। राशन कार्ड योजना के तहत आने वाले लाभार्थियों को राशन प्रदान किया जाता है। और इस विषय में तो सभी जानते हैं कि राशन कार्ड योजना के तहत आने वाले लाभार्थियों को जो राशन प्रदान किया जाता है उसका जो मूल्य होता है वह बाजार में उपस्थित मूल्य दरो की तुलना में बहुत ही अधिक कम होता है। 

इस योजना के तहत आने वाले लाभार्थियों को राशन में गेहूं तथा चावल दोनों प्रदान किया जाता है। प्रत्येक व्यक्ति को इस योजना के माध्यम से हर महीने 2 किलो चावल तथा 3 किलो गेहूं प्रदान किया जाता है। चावल की कीमत ₹1 प्रति 1 किलो होती है वहीं गेहूं की कीमत ₹2 प्रति 1 किलो होती है। 

राशनकार्ड लाभार्थी सूची में होने वाला वेरिफिकेशन

राशनकार्ड लाभार्थी सूची में होने वाले वेरिफिकेशन कि यदि बात की जाए तो यह अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि राशन कार्ड योजना के तहत आने वाले लाभार्थियों में परिवर्तन होते रहता है। कहने का तात्पर्य है कि लोगों के परिवारों में सदस्यों का आना जाना लगा रहता है। 

किसी परिवार में कोई व्यक्ति मृत हो जाता है तो उसकी संख्या परिवार के सदस्यों में घट जाती है उसके साथ ही जब परिवार में बच्चों का जन्म होता है या फिर बच्चों को गोद लिया जाता है तब सदस्यों की संख्या में वृद्धि आती है इसके साथ ही विवाह के पश्चात विवाहिता के आगमन के परिणाम स्वरूप भी सदस्यों की संख्या में वृद्धि होती है। 

नए सदस्यों के नाम किस प्रकार चढ़ाएं

यदि बात की जाए नए सदस्य की तो उनके नाम को राशन कार्ड लाभार्थी सूची में करवाने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है। जैसे कि यदि किसी बच्चे का नाम लाभार्थी सूची में जुड़वाना है तो उसका जन्म प्रमाण पत्र तथा उनके माता-पिता के आधार कार्ड और उसके साथ ही उस परिवार के मुखिया का राशन कार्ड आवश्यक है। 

इसके अतिरिक्त यदि किसी विवाहिता का नाम लाभार्थी सूची में जोड़ना है तो उस के पुराने राशन कार्ड की फोटोकॉपी इसके साथ ही विवाह प्रमाण पत्र और आधार कार्ड की आवश्यकता होगी। इसके पश्चात उनके नामों को लाभार्थी सूची में जोड़ दिया जाएगा। 

 सभी राशन कार्ड धारकों के लिए बड़ी अपडेट

यदि आप राशन कार्ड धारक है और इसके साथ ही यदि आप उत्तर प्रदेश राज्य के भी निवासी है तो आपके लिए यह हमारा यह आर्टिकल बहुत ज्यादा आवश्यक हो जाता है। क्योंकि इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको एक बहुत बड़ी अपडेट प्रदान करने वाले हैं। जिससे संभवतः आप भी प्रभावित हो सकते हैं। नई अपडेट के अनुसार राशन कार्ड योजना के तहत मिलने वाले मुफ्त राशन अब नहीं प्रदान किए जाएंगे। 

राज्य सरकार के द्वारा लगभग 600000 परिवारों के राशन कार्ड को निरस्त कर दिया जाएगा। क्योंकि इन कार्ड धारकों को अलग-अलग जिलों के माध्यम से लंबे समय से दोहरा राशन प्रदान किया जा रहा था 600000 परिवारों को जब यह दोहरा राशन प्रदान किया जा रहा था। तो इसके माध्यम से विभाग की बड़ी तकनीकी खामी भी उभर के लोगों के सामने आई है।  

केवल और केवल वास्तविक तथा जायस परिवारों को ही इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा। इसी के वास्ते राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाया गया है। जिससे कि कोई एक परिवार का सदस्य किसी दूसरे राशन कार्ड में स्वयं का नाम ना जोड़ सकें। इसके बाद से खाद्य रसद विभाग ने डी-डुप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का भी प्रयोग किया है। इसके माध्यम से यदि कोई व्यक्ति एक जिले में दो राशन कार्ड बनवाना है तो उससे यह पकड़ में आ जाएगा। 

राशन कार्ड में एक बड़ा धोखा

किंतु यदि दो विभिन्न जिलों में एक ही आधार नंबर से दो राशन कार्ड बनवाए जाते हैं तो इसकी पकड़ नहीं की जा सकती है। यही तकनीकी कमी प्रदेश में गड़बड़ी का कारण बन चुका है। करीब करीब 600000 परिवारों के राशन कार्ड दो जिलों में बनवाए गए हैं। इस परिस्थिति में सरकार ने विभाग के एक अधिकारी ने इस बात की स्पष्टीकरण प्रदान की है कि कार्ड में दर्ज परिवारों के मुखिया के असल निवासी वाला कार्ड जारी किया जाएगा। 

इसके अतिरिक्त दूसरे कार्ड को समाप्त कर दिए जाएंगे। राशन कार्ड के मुखिया के निवास स्थल पर ही राशन सरकार प्रदान करें। इसके जरिए होने वाले धोखाधड़ी पर नियंत्रण साधा जा सकेगा। 

ration card

गलती किसकी

यदि बात की जाए राशन कार्ड योजना में होने वाले इस गड़बड़ी की तो इसका जिम्मेदार कौन है यह बात स्पष्ट कर पाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है। कहने का तात्पर्य है कि लोगों के द्वारा सरकार की इस योजना का दुरुपयोग कर जरूरत से ज्यादा राशन प्राप्त किया जा रहा है। इसमें इन लोगों की गलती है किंतु सरकार की भी इसमें बहुत बड़ी त्रुटि है। जो कि अपनी तकनीकी कमियों की वजह से इन लोगों को यह सभी क्रियाकलाप करने के अवसर प्रदान कर रहा है। देखा जाए तो इसमें दोनों की गलती है। 

निष्कर्ष:-

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको राशन कार्ड योजना से जुड़ी बहुत सी मूलभूत जानकारियां प्रदान की है। हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा प्रदान की गई यह सभी जानकारियां आप को बेहद पसंद आई होगी। यदि आप हमसे कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं अथवा हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो यह कार्य आप कमेंट कर के आसानी से कर सकते हैं। हमारे इस आर्टिकल को अधिक से अधिक लोगों के साथ जरूर शेयर करें,धन्यवाद। 

महत्वपूर्ण पोस्ट पढ़ें:-

Important Links

Official WebsiteClick Here
Check Ration Card New ListClick Here
CGWAS HomeClick Here
Join TelegramClick Here

Leave a Comment