Ration Card New Guideline: राशन कार्ड बड़ी बदलाव 1 जून से लागू , जाने पूरी डिटेल 

UP ration card: भारत सरकार के हर राज्य अपने यहां रह रहे गरीब व जरूरतमंद लोगों के लिए राशन कार्ड जारी करता है। कार्ड पर परिवार के सभी सदस्यों का नाम लिखा रहता है और एक फोटो भी लगी रहती है। इसके जरिए आर्थिक रूप से कमजोर परिवार अपने नजदीकी सरकारी दुकान से निःशुल्क या कम दाम पर राशन सामग्री (जैसे- गेहूं, चावल, चीनी आदि खाद्य पदार्थ) प्राप्त कर सकता है। लेकिन कई बार मुफ्त या कम दाम पर राशन पाने की लालच में या किसी अन्य योजना का लाभ उठाने के लिए मध्यम आय वर्ग के लोग भी राशन कार्ड बनवा कर गरीबों का हक लेने लगते और सरकार को नुकसान पहुंचाते हैं।

उत्तर प्रदेश राशन कार्ड धोखाधड़ी मामला

UP ration card: उत्तर प्रदेश सरकार भी ‘खाद्य तथा रसद विभाग’ द्वारा अपने राज्य के गरीब व आर्थिक रूप से कमजोर नागरिकों की मदद के लिए राशन कार्ड जारी करता है। लेकिन इन दिनों अपात्र लोग द्वारा धोखाधड़ी और मनमाने ढंग से बनवाए गए राशन कार्ड की लगातार खबरें आ रही हैं। अपात्र राशन कार्ड धारकों के खिलाफ यह सख्ती उत्तर प्रदेश के साथ साथ बिहार और उत्तराखंड में भी देखने को मिल रही है। बिहार में 28 लाख 79 हज़ार 116 कार्ड निरस्त किए गए हैं। सरकार के नियमों के मुताबिक यह आर्थिक सहायता सिर्फ़ और सिर्फ़ गरीब और कमजोर वर्ग को ही दी जाती है। कई सूत्रों से ख़बर आ रही कि उत्तर प्रदेश सरकार ने भी अपात्र राशन कार्ड धारकों के राशन कार्ड रद्द करने का फैसला किया है। यह खबर सच है या मात्र अफवाह है, हम आपको अपने इस लेख के जरिए बताएंगे।

उत्तर प्रदेश राशन कार्ड मामले पर सरकार का फैसला

UP Ration Card: ऐसी खबर आ रही कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन शिकायतों से निपटने के लिए ऐसे लोगों के खिलाफ़ सख्त कार्रवाई करने का फैसला लिया है। जिसके बाद जिलेवार सूची तैयार कर राशन कार्ड निरस्त किये जा रहे हैं। इसके साथ ही किसी जरूरतमंद का राशन कार्ड रद्द ना हो जाए, योगी ने इस पर भी पूरा ध्यान दिया है। सीएम योगी ने अपने बयान में कहा कि जिले में कम से कम तीन स्तरीय जांच के बाद राशन कार्ड रद्द किया जाए। अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि अगर कार्ड रद्द होने से किसी जरूरतमंद का राशन बंद हो जाता है तो यह अच्छा नहीं होगा।

किन लोगों के राशन कार्ड निरस्त होने वाले है

सरकार राशन कार्ड का लाभ गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों को देती है। अगर आप निम्नलिखित किसी एक श्रेणी में भी आते हैं तो आप इस लाभ प्राप्त करने के लिए अपात्र माने जायेंगे और आपका राशन कार्ड निरस्त कर दिया जाएगा:-

  • 100 वर्ग मीटर प्लॉट, घर या फ्लैट के मालिक
  • 80 वर्ग मीटर कॉर्पोरेट एरिया के व्यावसायिक स्थान वाले
  • पांच एकड़ से अधिक भूमि वाले
  • एक से अधिक शस्त्र लाइसेंस
  • परिवार में कोई भी चार पहिया वाहन (कार) हो
  • खेती के लिए घर में अपना ट्रैक्टर हो
  • घर में एसी लगा हो
  • हार्वेस्टर रखने वाले
  • 5 केवी या अधिक क्षमता का जनरेटर रखने वाले परिवार
  • परिवार का कोई एक भी सदस्य आयकर दाता हो
  • ग्रामीण क्षेत्र में दो लाख वार्षिक आय वाले परिवार
  • शहरी क्षेत्र में प्रति वर्ष तीन लाख की वार्षिक आय वाले परिवार

अपात्र सूची में है तो क्या करें

UP ration card: सूत्रों के मुताबिक अगर आप किसी भी अपात्र श्रेणी में आते हैं तो घबराएं नहीं, सरकार की कार्रवाई करने से पहले ही अपना राशन कार्ड सरेंडर कर दें। इसके लिए नोटरी स्टेटमेंट हेल्पफी बनाकर अपने राशन कार्ड की फोटोकॉपी तहसील व डीएसओ में जमा करना होगा। फिलहाल सरकार ने इसके लिए कोई अंतिम तिथि तय नहीं की है। बेहतर यही होगा अपात्र सूची में आने वाले लोग स्वयं राशन कार्ड जमा कर दें अन्यथा अंतिम तिथि के बाद जांच करने पर अपात्र व्यक्तियों के खिलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की जायेगी, उनका राशन कार्ड निरस्त किया जाएगा और जब से राशन ले रहे हैं, तब से अब तक की वसूली भी की जा सकती है। जिला मजिस्ट्रेट के अनुसार – गेहूं के लिए 24 रुपये प्रति किलोग्राम, चावल और नमक के लिए 32 रुपये प्रति किलोग्राम, चीनी, तेल और अन्य अवयवों को बाजार दर पर बरामद किया जाएगा।

खाद्य आयुक्त का बयान

राज्य के खाद्य आयुक्त सौरव बाबू ने कहा कि राशनकार्ड सत्यापन एक सामान्य प्रक्रिया है जो कि समय-समय पर चलती रहती है। राशन कार्ड सरेंडर करने और पात्रता की नई शर्तों के संबंध में आधारहीन प्रचार किया जा रहा है। सत्यता है कि पात्र गृहस्थी राशनकार्डों की पात्रता, अपात्रता के संबंध में 7 अक्टूबर 2014 के शासनादेश के मानक निर्धारित किए गए थे जिसमें वर्तमान में कोई खास परिवर्तन नहीं किया गया है, केवल ट्रैक्टर और हार्वेस्टर को जोड़ दिया गया है।

up ration card list 2022

क्या है असल मामला 

बांदा डीएम के आधार पर जो सरेंडर, वसूली और निरस्तीकरण की बात कही गई थी, वह सच है लेकिन यह आधा अधूरा सच है। यह आदेश डीएम ने जिला स्तर पर जारी किया था और यह सिर्फ अंत्योदय कार्ड धारकों के लिए है। जिले में ऐसी शिकायत आ रही थी कि बहुत से अपात्र लोग अंत्योदय कार्ड बनवा लिए हैं, जिसके एवज में यह फैसला लिया गया है। बांदा के डीएम अनुराग पटेल ने साफ शब्दों में कहा कि इस सत्यापन का एपीएल और बीपीएल कार्ड धारकों से कोई भी संबंध नहीं है।

यूपी राशन कार्ड के लिए तय की गई पात्रता

  • गांव में रहने वाले परिवार की कुल वार्षिक आय 2 लाख और शहर में रहने वाले परिवार की आय 3 लाख से कम है।
  • दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी।
  • भूमिहीन मजदूरों के परिवार या 5 एकड़ से कम भूमि वाले परिवार।
  • जिसके पास कोई भी चार पहिया वाहन नहीं है।
  • आर्थिक जनगणना 2011 में गरीब परिवारों की पहचान की गई है।
  • भिखारी।
  • रिक्शा चालक।
  • ड्राइवर, कुली और अन्य मजदूर।

यूपी राशन कार्ड आवेदन के लिए जरुरी दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • चालू मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

कुछ महत्वपूर्ण पोस्ट पढ़ें:-

यूपी राशन कार्ड के लाभ

अगर आप राशन कार्ड बनवाने की पात्र श्रेणी में आते हैं और अब तक इसके लाभ से वंचित हैं तो जल्द ही अपना राशन कार्ड बनवाएं और निम्नलिखित फायदे उठाएं:-

  • राशन कार्ड बहुत उपयोगी दस्तावेज है। आप इसका इस्तेमाल पहचान पत्र (आईडी प्रूफ) के रूप में भी कर सकते हैं। 
  • इसका उपयोग विभिन्न सरकारी कामों जैसे- वोटर आईडी बनवाने और बैंक में खाता खुलवाने बनवाने में भी किया जा सकता है।
  • राशन कार्ड मुफ़्त में राशन लेने के ही नहीं बल्कि सस्ती दरों पर अन्य खाद्य प्रदार्थ जैसे गेहूं, चावल, केरोसिन तेल, चीनी आदि लेने के भी काम आता है।
  • चूंकि आपके राशन कार्ड पर आपके निवास स्थान का पता दर्ज होता है। इसलिए इसका इस्तेमाल एड्रेस प्रूफ के तौर पर भी किया जा सकता है।
  • इतना ही नहीं अगर आप बिजली कनेक्शन लेना चाहते है तो वह भी राशन कार्ड के जरिये आसानी से ले सकते है।

Important links

UP ration card में बड़ा बदलावClick Here
Official websiteClick Here
CGWAS HomeClick Here

Leave a Comment