5 गेंद में 3 विकेट लिए,एक बाउंसर से 10 मिनट तक रुका मैच, पापा को डेडिकेट की कामयाबी 

राजकोट में खेले गए चौथे टी20 इंटरनेशनल मैच में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को 82 रन से हरा दिया. इस जीत के साथ ही भारतीय टीम ने 5 मैचों की सीरीज में 2-2 की बराबरी कर ली है। भारत की जीत के हीरो इंदौर के तेज गेंदबाज अवेश खान थे।

अवेश ने मैच में 18 रन देकर 4 विकेट लिए। अवेश खान का तीसरा ओवर (दक्षिण अफ्रीका की पारी का 15वां ओवर) काफी घटनापूर्ण रहा। इस ओवर में अवेश ने तीन विकेट लिए और अफ्रीकी खिलाड़ी मार्को येन्सन को अपनी तेज बाउंसर का स्वाद भी चखा।

बाउंसर इतना घातक था कि मैच को 10 मिनट के लिए रोकना पड़ा। अवेश ने इस मैच की सफलता को अपने पिता को समर्पित किया। शुक्रवार को उसके पिता का जन्मदिन था।

पहली गेंदः बैक ऑफ लेंथ गेंद को येन्सन ने थर्ड मैन की तरफ खेलकर एक रन लिया। दूसरी गेंदः साउथ अफ्रीकी की धीमी रन गति को तेज करने के इरादे से रेसी वॉन डेर डुसेन ने ऊंचा शॉट खेला। डीप मिडविकेट पर ऋतुराज गायकवाड ने आसान सा कैच पकड़ लिया।

आवेश के तीसरे ओवर में क्या-क्या हुआ

तीसरी गेंदः आवेश का तीखा बाउंसर येन्सन के सिर के पिछले हिस्से में लगा। येन्सन दर्द से परेशान दिखे। कन्कशन नियम के कारण फीजियो ने ग्राउंड पर आकर रूटीन चेकअप किया। करीब 10 मिनट तक मैच रुका रहा।

चौथी गेंदः बाउंसर खाकर झल्लाए येन्सन ने इस गेंद पर बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की, लेकिन डीप मिडविकेट पर ऋतुराज गायकवाड को कैच पकड़कर उन्हें पवेलियन लौटने को मजबूर किया।

पांचवीं गेंदः आवेश ने एक और बाउंसर डाली। उछल इतना था कि विकेटकीपर ऋषभ पंत भी बॉल नहीं रोक सके और साउथ अफ्रीका 4 रन बाय के रूप में मिले।

छठी गेंदः आवेश ने केशव महाराज का विकेट निकालकर ओवर हैट्रिक पूरी की और साउथ अफ्रीका की चुनौती को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया।

आवेश खान इस सीरीज के पहले तीन मुकाबलों में विकेट नहीं ले पाए थे। आलोचना हो रही थी कि भारतीय टीम मैनेजमेंट उनके स्थान पर उमरान मलिक को मौका क्यों नहीं दे रहा है, लेकिन इस बार आवेश ने चार विकेट निकालकर साबित कर दिया कि उनके पास भी भारत को जीत दिलाने का दमखम है।