महेंद्र सिंह धोनी का 'दोहरा शतक', दिग्गजों को पीछे छोड़कर हासिल किया खास मुकाम

चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट के मैदान पर उतरते ही कोई न कोई बड़ा रिकॉर्ड बना देते हैं। 2004 में इंटरनेशनल डेब्यू करने वाले धोनी ने 2019 में भारत के लिए आखिरी मैच खेला था।

उसके तीन साल बाद भी धोनी मैदान पर धमाल मचा रहे हैं। दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ रविवार की रात हुए मुकाबले में धोनी ने बल्ले से 8 गेंदों पर 21 रनों की पारी खेली। इसमें दो छक्के भी शामिल थे.

इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी ने विकेटकीपिंग में भी बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम कर किया। वे टी20 क्रिकेट में 200 कैच लेने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बन गए हैं। दिल्ली के खिलाफ मैच में धोनी ने पहले रोवमैन पॉवेल और फिर शार्दुल ठाकुर का कैच लिया

शार्दुल के कैच के साथ ही उनके इस फॉर्मेट में 200 कैच हो गए हैं। दिसंबर 2006 में धोनी ने अपना पहला टी20 मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। यह भारतीय टीम का भी पहला टी20 मैच था.

200 कैच तक पहुंचने के लिए उन्हें 347 मैच लगे। टी20 में सबसे ज्यादा लेने वाले विकेटकीपर की लिस्ट में दूसरे नंबर पर भी भारतीय खिलाड़ी ही हैं, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के विकेटकीपर दिनेश कार्तिक.

कार्तिक ने अभी तक 299 टी20 मैचों में कीपिंग की है और इसमें उनके नाम 182 कैच हैं। इसके बाद नंबर आता है पाकिस्तान के कामरान अकमल का। अकमल ने 282 मैच में 172 कैच लिए हैं.

आईपीएल में भी सबसे ज्यादा 129 कैच लेने का रिकॉर्ड महेंद्र सिंह धोनी के नाम ही है। उन्होंने लीग में सबसे ज्यादा 168 शिकार किए हैं, जिसमें 39 स्टंपिंग भी शामिल हैं। टी20 इंटरनेशनल मैच में भी धोनी शिकार करने के मामले में पहले नंबर पर हैं.

98 मैचों में उन्होंने 91 शिकार किए हैं, जिसमें 57 कैच और 34 स्टंपिंग हैं। 64 शिकार के साथ दक्षिण अफ्रीका के क्विंटन डि कॉक दूसरे नंबर पर हैं.