क्लास में अभी के लिए केसर शॉल,हिजाब नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय ने यह कहा है

बेंगलुरु:- कर्नाटक के सरकार ने सभी छात्रों को अगले आदेश तक क्लास में हिजाब, भगवा साल या किसी भी धार्मिक कपड़े पहनने से मना किया है, कर्नाटक उच्च न्यायालय ने एक अंतिम आदेश में कुछ कॉलेजों द्वारा कक्षा में हिजाब को बंद करने वाले ड्रेस कोड को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा।

यह आदेश  सिर्फ उन कॉलेजों के लिए है जिन्होंने वर्दी या कोई भी ड्रेस कोड अपने कॉलेजों के लिए रखा है,उच्च न्यायालय ने कहा कि वह पिछले कुछ दिनों से चल रहे आंदोलन और शैक्षणिक संस्थानों के बंद होने से आहत है।

हम राज्य सरकार और अन्य सभी हितधारकों से शिक्षण संस्थानों को फिर से खोलने और छात्रों को जल्द से जल्द कक्षाओं में लौटने की अनुमति देने का अनुरोध करते हैं। इन सभी याचिकाओं पर विचार किए जाने तक, हम सभी छात्रों को उनके धर्म या आस्था की परवाह किए बिना भगवा शॉल (भगवा), स्कार्फ, हिजाब, धार्मिक झंडे या कक्षा के भीतर अगले आदेश तक पहनने से रोका गया है। 

उच्च न्यायालय ने कहा कि उच्च अध्ययन में प्रवेश के लिए समयसीमा को देखते हुए शैक्षणिक शर्तों का विस्तार छात्रों के लिए हानिकारक होगा।और छात्रों ने अपनी याचिका में तर्क दिया था कि अभी के लिए धार्मिक पोशाक पर प्रतिबंध लगाने का उच्च न्यायालय का आदेश उसके संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है।

चीफ जस्टिस एनवी रमना ने कहा है कृपया इसे बड़े स्तर पर न फैलाएं। हम जानते हैं कि क्या हो रहा है। जरा सोचिए, क्या इन चीजों को दिल्ली ले जाना सही है? या फिर इसे राष्ट्रीय स्तर पर फैलाना सही है? अगर कुछ गलत हुआ तो हम अधिकारों की रक्षा करेंगे।

इस हफ्ते की शुरुआत में क्लास में हिजाब पर प्रतिबंध को लेकर बढ़ते विवाद के बीच स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए थे। उडुपी में एक सरकारी कॉलेज में हिजाब पर प्रतिबंध के खिलाफ शुरू हुआ विरोध कई अन्य परिसरों में फैल गया.

जहां सिर पर स्कार्फ पहनने वाली लड़कियों को प्रवेश की अनुमति नहीं थी। जैसे ही भगवा दुपट्टा पहने छात्रों ने प्रतिद्वंद्वी विरोध शुरू किया, एक कॉलेज में हिंसा ने पुलिस को आग पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े।