विराट कोहली ने भी मेरे साथ डेब्यू किया पर धोनी ने उन्हें आगे बढ़ाया, मेरे साथ हुआ अन्याय

विराट कोहली ने 2008 में वनडे और 2011 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था. इस दौर में उनके साथ कई और युवा खिलाड़ियों ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था लेकिन इसके बाद कोहली तो बुलंदियों पर चढ़ते चले गए पर कई खिलाड़ियों का करियर खत्म भी हो गया|

पाकिस्तान के 30 वर्षीय क्रिकेटर अहमद शहजाद ने सीनियर खिलाड़ियों द्वारा समर्थन नहीं किए जाने पर निराशा व्यक्त की. उन्होंने कहा कि विराट कोहली ने करीब उसी समय पदार्पण किया था.

अहमद शहजाद ने बयां किया अपना दर्द

वह एमएस धोनी की मार्गदर्शन में आगे बढ़े. जबकि उनके करियर में गिरावट आई. शहजाद को भी एक समय पाकिस्तान का विराट कोहली कहा जाता था लेकिन वकार यूनिस के कोच रहते हुए उन्हें सपोर्ट नहीं मिला और टीम से भी निकाल दिया गया|

शहजाद के मुताबिक, मैंने यह पहले भी कहा है और इसे फिर से कहूंगा. विराट कोहली का करियर आगे बढ़ा, क्योंकि उन्होंने एमएस धोनी को पाया लेकिन दुर्भाग्य से पाकिस्तान में लोग आपकी सफलता को बर्दाश्त नहीं कर सकते.

हमारे सीनियर खिलाड़ी और पूर्व क्रिकेटर किसी को सफल होते देखकर पचा नहीं सकते. जो पाकिस्तान क्रिकेट के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है|

पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज अहमद शहजाद लंबे समय से पाक टीम से बाहर हैं. उन्हें करीब 3 साल पहले टीम से ड्रॉप कर दिया गया था. शहजाद साल 2019 में आखिरी बार पाकिस्तान के लिए खेले थे. वह साल 2017 के बाद से टेस्ट और वनडे मैच नहीं खेले हैं|

वकार की वजह से करियर पर पड़ा बुरा असर

उन्होंने टीम से बाहर किए जाने पर अब बयान दिया है. अहमद शहजाद का कहना है कि वकार यूनुस के चलते उनका करियर बर्बाद हुआ. वकार यूनिस ने टीम में राजनीतिक माहौल खड़ा कर दिया जिससे उनके प्रदर्शन पर बुरा असर पड़ा|