Virender Sehwag DRS Controversy: लाइट कटी तो जनरेटर क्यों नहीं यूज किया? CSK की हार पर वीरेंद्र सहवाग ने लगाई लताड़

मुंबई इंडियंस के खिलाफ 'करो या मरो' मुकाबले में चेन्नई को मिली हार के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार DRS को माना जा रहा है। मैच के शुरुआती कुछ समय तक डीआरएस उपलब्ध नहीं था।

लाइट नहीं होने से पूरा सिस्टम बंद था और उसी समय डेवॉन कॉन्वे विवादित LBW आउट हुए और चेन्नई DRS नहीं ले सका। इस पर वीरेंद्र सहवाग ने पूरे सिस्टम को जमकर लताड़ लगाई।

उन्होंने DRS के लिए जनरेटर का इस्तेमाल नहीं करने के लिए सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, 'यह आश्चर्यजनक था कि बिजली कटौती के कारण डीआरएस उपलब्ध नहीं था।

यह इतनी बड़ी लीग है कि एक जनरेटर का उपयोग किया जा सकता है। जो भी सॉफ्टवेयर था, वह बैकअप के जरिए बिजली से चलाया जा सकता था। यह बीसीसीआई के लिए एक बड़ा सवाल है।

'क्रिकबज' से उन्होंने कहा, 'अगर बिजली कट जाती है तो क्या होगा? क्या जनरेटर केवल स्टेडियम की रोशनी के लिए है न कि ब्रॉडकास्टर्स और उनके सिस्टम के लिए? अगर मैच हो रहा था तो डीआरएस का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए था।

या डीआरएस का इस्तेमाल पूरे मैच में नहीं किया जाना चाहिए था। अगर मुंबई पहले बल्लेबाजी कर रही होती तो उन्हें नुकसान होता।

उल्लेखनीय है कि मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस मैच में चेन्नै को हार की कगार पर पहुंचाने में जितना अहम रोल मुंबई के पेसर डेनियल सैम्स (3/16) का रहा, उतनी ही अहम भूमिका पावरकट ने भी निभाई।

मैदान पर पावरकट होने की वजह से डीआरएस की सुविधा उपलब्ध नहीं थी और शुरुआती 1.4 ओवर तक चेन्नै के बल्लेबाजों को रिव्यू का विकल्प नहीं मिला। इन्हीं शुरुआती 10 गेंदों में चेन्नै ने तीन विकेट गंवा दिए। इसके बाद विकेट गिरने का सिलसिला रुका नहीं और टीम 97 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई।